ब्रेकिंग

गोरखपुर लोकसभा चुनाव : विकास हावी रहेगा या धर्म बनेगा मुद्दा ?

भाजपा के लिए धर्म युद्ध जरूरी तो गठबन्धन मुस्लिम मतदाताओं की मजबूरी, भीतरघात से भी बदलेगा समीकरण

गोरखपुर । देश में भले ही अलग-अलग मुद्दे पर अलग-अलग समय में लोकसभा चुनाव हुए हो लेकिन गोरखपुर में लोकसभा का चुनाव धर्म और जाति पर ही केंद्रित रहा है । एक तरफ जहां भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी रवि किशन द्वारा अपने रोड शो के दौरान भगवा वस्त्र में आक्रामक तेवर के साथ चुनाव प्रचार अभियान शुरू किया गया तो वहीं दूसरी ओर कभी सीएम योगी आदित्यनाथ के खास रहे और अब हिंदू युवा वाहिनी भारत के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं हिंदुस्तान निर्माण दल के गोरखपुर लोकसभा प्रत्याशी सुनील सिंह ने अपने चुनाव प्रचार में जनसंपर्क के दौरान अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण, धारा 370 की समाप्ति, समान नागरिक संहिता, गौ हत्या पर पूर्ण प्रतिबंध आदि उन तमाम मुद्दे उठाये जा रहे हैं जिनको लेकर कभी हिन्दू युवा वहिनी की स्थापना के साथ पूर्वांचल में हिंदुत्व को धार दी गईं थी लेकिन सत्ता में आने के बाद भाजपा व हियुवा साथ खुद सीएम योगी की इन तमाम मुद्दों पर धार कुंद हो गई।
दूसरी तरफ अगर गठबंधन प्रत्याशी की बात करें तो सजातीय वोटों के साथ ही सपा और बसपा के परंपरागत वोट बैंक के सहारे चुनावी रण जीतने की बात की जा रही है ।
वहीं कांग्रेस द्वारा प्रत्याशी के मुद्दे पर अभी तक सस्पेंस बरकरार है या यूं कहिए कि इस राष्ट्रीय दल को गोरखपुर में वह प्रत्याशी नहीं मिल रहा जो वर्तमान परिस्थितियों में भाजपा और गठबंधन के सामने ठहर सके।
हालांकि भारतीय जनता पार्टी द्वारा बाहरी प्रत्याशी को लेकर पार्टी के अंदरखाने में सब कुछ ठीक नहीं कहा जा सकता जिसकी बानगी शुक्रवार को प्रत्याशी के साथ नेताओं की बैठक और प्रेस वार्ता के दौरान देखा गया
कमोबेश ऐसी ही स्थिति सपा और बसपा गठबंधन प्रत्याशी के साथ देखने को मिल सकती है । लेकिन यहां स्थिति भाजपा से थोड़ा अलग है यहां गठबंधन प्रत्याशी द्वारा मुस्लिम नेताओं को तरजीह न दिए जाने और उनकी उपेक्षा की बात दबी ज़बान की जाने लगी है।
सूत्रों की माने तो वर्तमान परिस्थितियों में गठबंधन प्रत्याशी को ऐसा लग रहा है कि मुस्लिम नेता और मतदाताओं के पास उनके अलावा कोई दूसरा विकल्प ही नहीं है। माना जाए तो यहाँ गठबन्धन मुस्लिम मतदाताओं की मजबूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *